Tuesday, October 4, 2022
HomeCOVIDHealthAIIMS About Momos: मोमोज से मौत, एम्स ने कहा- खाने से पहले...

AIIMS About Momos: मोमोज से मौत, एम्स ने कहा- खाने से पहले खूब चबाएं

-

AIIMS About Momos: दम घुटने का दुर्लभ मामला, दिल्ली AIIMS ने राज्यों को जारी की एडवायजरी

All India Institute Of Medical Sciences ( AIIMS ) दिल्ली के विशेषज्ञों ने दम घुटने से एक व्यक्ति की मौत के एक दुर्लभ मामले की रिपोर्ट करने के बाद ‘सावधानी के साथ निगलने’ की चेतावनी जारी की है। AIIMS फोरेंसिक विशेषज्ञों ने कहा कि Momos एक लोकप्रिय स्ट्रीट फूड है, जिसकी सतह फिसलन भरी और मुलायम होती है।

इसी वजह से ठीक से चबाए बिना निगलने पर यह दम घुटने और यहां तक कि मौत का कारण बन सकती है। खबर के मुताबिक, AIIMS की रिपोर्ट के अनुसार शराब के नशे में धुत करीब 50 साल के एक व्यक्ति को मृत अवस्था में दक्षिण दिल्ली से AIIMS लाया गया था।

AIIMS About Momos

इन्हें भी पढ़ें: Inspirational Story in Hindi: अहंकार का त्याग, तपस्या का मूलमंत्र

AIIMS About Momos: पुलिस जांच में पता चला कि वह एक दुकान में खाना खा रहा था, तभी अचानक जमीन पर गिर गया। पोस्टमॉर्टम के दौरान सीटी स्केन के इस्तेमाल से पता चला कि ऊपरी वायुमार्ग या विडपाइप के शुरुआत में एक पकौड़ी जैसी चीज दर्ज की गई, जिससे डॉक्टरों ने निष्कर्ष में निकाला कि Momos की वजह से दम घुटने से उसकी मृत्यु हो गई।

चिकित्सकीय शब्दों में घुटन एक ऐसी स्थिति है जहां वासनी (भोजन के पेट में जाने की नली) और श्वासनली के बीच किसी भी स्थान पर वायुमार्ग में रुकावट होती है। जब भी कोई व्यक्ति कुछ भी खाता है जो भोजन नली में प्रवेश करने के लिए बहुत बड़ा है और गलती से हवा की नली में फिसल जाता है, तो वह ट्यूब का निचला हिस्सा जो भोजन नली और हवा की नली की ओर जाता है, उसमें रह सकता है, जिसके परिणामस्वरूप श्वसन पथ में रुकावट आ जाती है और यह दम घुटने का कारण बनता है।

फोरेंसिक प्रमुख ने क्या कहा

इस रिपोर्ट को जर्नल ऑफ फॉरेंसिक इमेजिंग के नवीनतम संस्करण में प्रकाशित किया गया है। AIIMS में फोरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ सुधीर गुप्ता ने मिंट को बताया, ये निष्कर्ष चिकित्सकीय राय के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं, लेकिन इसे केवल सीटी स्कैन द्वारा ही किया जा सकता है। पारंपरिक दृश्य पोस्टमॉर्टम परीक्षण में इसका पता नहीं लगाया जा सकता है।

घातक हो सकता है मोमोज

रिपोर्ट के लेखक और AIIMS में फोरेंसिक विभाग के अतिरिक्त प्रोफेसर डॉ अभिषेक यादव ने कहा, उबले हुए Momos पसंदीदा स्ट्रीट फूड में से एक है। Momos में एक फिसलन वाली नरम सतह होती है जो घुटन की स्थिति पैदा करने के साथ ही ठीक से चार निगलने पर घातक भी हो सकती है। इस विशेष मामले में मौत का कारण न्यूरोजेनिक कार्डियक अरेस्ट था, जो कि Momos के चौक होने की वजह से हुआ।

श्वासनली में रुकावट पर क्या करें ?

अतिरिक्त प्रोफेसर डॉ अभिषेक यादव ने कहा, एक Momos काफी बड़ा होता है। लोगों को इस तरह का खाना खाते समय जागरूक होना चाहिए। जब भी ऐसी घटनाएं होती हैं, तो वहां मौजूद लोगों को तुरंत हेमलिच मानोउर्व करनी चाहिए। हेमलिच मानोउर्वरक प्राथमिक चिकित्सा प्रक्रिया जिसमें श्वासनली से रुकावट को हटाने के लिए नाभि और पसली के बीच उनके पेट पर तेज दबाव डाला जाता है।

इन्हें भी पढ़ें: Time Management Tips in Hindi: कैसे करें अपने बहुमूल्य समय का अधिक से अधिक सदुपयोग ?

Pandit_Pawan_Maharaj_Utai
घर बैठे पाएं सभी समस्याओं का समाधान, Image पर Click करके Call करें

Disclaimer: skypresso.com does not promote or support piracy of any kind. Piracy is a criminal offense under the Copyright Act of 1957. We further request you to refrain from participating in or encouraging piracy of any form!

Aman Agrawal
Aman Agrawalhttp://skypresso.com
Hello friends! I am Aman Agarwal, the founder of (Skypresso), if I talk about my education, then I have completed my graduation in B.Tech (Computer Science). We give you a review about the web series with the help of our website and try to reach you the right information about the entertainment world.

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest posts