Tuesday, October 4, 2022
HomeAll IndiaGoogle Doodle Anne Frank News in Hindi: होलोकॉस्ट पीड़ित ऐनी फ्रैंक के...

Google Doodle Anne Frank News in Hindi: होलोकॉस्ट पीड़ित ऐनी फ्रैंक के 75th वर्षगांठ पर Google ने किया सम्मान

-

Google Doodle Anne Frank News in Hindi:

The Diary of a Young Girl के नाम से मशहूर Anne Frank ‘ऐनी फ्रैंक’ को (Google Doodle) गूगल डबल एनिमेटेड स्लाइड शो के साथ गूगल ने सम्मान जाता है। ऐनी फ्रैंक जिसे पूरी दुनिया उसके डायरी के कारण से जानती है। जिसका नाम The Diary of a Young Girl ‘द डायरी ऑफ अ यंग गर्ल’ है। 

इन्हे भी पढे: एक बार फिर से अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी और परेश रावल साथ में नजर आएंगे

Google Doodle Anne Frank News in Hindi
Google Doodle Anne Frank News in Hindi

वह डायरी ऐनी फ्रैंक की सबसे अच्छी सहेली और दोस्ती थी, कहा जाता है कि ऐनी फ्रैंक उससे बातें करती थी और प्यार से उसे किटी नाम से बुलाते थी। ऐनी फ्रैंक चाहती थी कि वह हर बातें जिसे वह महसूस करती है वह अपनी डायरी में लिखे। उसका कहना था कि अगर वह डायरी नहीं लिखती तो शायद वह घुसकर मर जाती। 

The Diary of a Young Girl: 

Anne की डायरी को जब प्रकाशित किया गया तो उस डायरी को हर एक लड़की ने रात-रात जागकर उसे पढ़ा और उसे महसूस किया। वह इस डायरी को इसलिए लिखना चाहती थी ताकि वह मरने के बाद भी सभी के दिलों में जिंदा रहे। 

ऐनी फ्रैंक दुनिया को एक अलग नजरिया से जीना सिखा दिया। उनके जन्मदिन पर इस बात को जानना बहुत ही जरूरी है। The Diary of a Young Girl ‘द डायरी ऑफ अ यंग गर्ल’ के नाम से मशहूर एनी का जन्म 12 जून 1929 को हुई थी। 

नीदरलैंड पर जब नाजियों ने कब्जा कर लिया तो 1933 में एनी फ्रैंक का पूरा परिवार नाजियों से बचकर नीदरलैंड रहने के लिए चले गए। (World War II) द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान वे सभी एम्स्टर्डम वह घर के पिछले हिस्से में छुप कर रहते थे। उनका पूरा परिवार 1942 से लेकर 1940 तक वही रहा। बाद में एनी ने इसी जगह की पूरी घटनाओं को अपनी डायरी में लिखा जो कि दुनिया भर में बहुत ज्यादा लोकप्रिय हुई। 

Anne Frank News in Hindi: 

Google Doodle Anne Frank News
Google Doodle Anne Frank News

Anne Frank एक लेखक बनना चाहती थी। तभी उसने दिल्ली की और उसके पिता ने 25 जून 1947 को उसके द्वारा लिखी डायरी को प्रकाशित कर दिया और इस किताब का नाम ‘पिछवाड़े वाला घर’ रखा गया, ये किताब बहुत ज्यादा मशहूर भी हुई और ऐन नाजी यातना का प्रतीक भी बन गई। 

मरने से पहले इतनी ज्यादा किताबें लिख चुकी थी कि आज भी दुनिया भर में उनकी किताबें पढ़ी जा रही है। बेर्गन बेलसेन में Anne Frank की कब्र भी मौजूद है। 

इन्हे भी पढे: इन 5 तरीकों से घर बैठे कर सकते हैं कसरत

Disclaimer: skypresso.com does not promote or support piracy of any kind. Piracy is a criminal offense under the Copyright Act of 1957. We further request you to refrain from participating in or encouraging piracy of any form!

Supriyo Biswas
Supriyo Biswas
Hello friends! I am SUPRIYO Vishwas, Co-Founder and COO of (SKYPRESSO), if I talk about my education I have completed my graduation in B.Sc. I love learning about new things, so we will give you all the new information through the website, your cooperation is our good fortune!

Related articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest posts